Followers

Total Pageviews

Friday, November 18, 2016

खामोश लब

तेरे खामोश लबों की बातें
आँखों से समझ लेता हूँ
बडी अजीब बात है
धड़कने मगर मेरे दिल की
दिल उसका धड़काती
नहीं हैं
*नीलम *

1 comment:

  1. कहने को खूब कही है। ....

    ReplyDelete