Followers

Total Pageviews

Monday, April 23, 2018

लम्हे----देखो मैंने चाँद टांक दिया तुम्हारी खिड़की पर तारों को पिरो दिया तुम्हारे गजरे में यादें मुझे भी बहुत सताती हैं सुनो अब तो लौट आओ ना #नीलम

No comments:

Post a Comment